Breaking: पशुओं में वायरल बीमारी के प्रकोप से रोकथाम को शुरू हुआ जागरूकता अभियान

-पशुओं में वायरल बीमारी के प्रकोप से रोकथाम को शुरू हुआ जागरूकता अभियान

बंदरा/दीपक कुमार तिवारी।

राजस्थान एवं यूपी में पशुओं में वायरल बीमारी के प्रकोप तथा इससे हो रही मौतों के मद्देनजर बिहार में पशुओं के सुरक्षा, बीमारी से बचाव एवं उपचार के लिए पशुपालकों में जागरूकता का अभियान चलाया जा रहा है। इसके मद्देनजर बन्दरा प्रखंड क्षेत्र में भी सोमवार को इसकी शुरुआत की गई।अब यहां भी जगह-जगह यह अभियान चलाया जाएगा। प्रखंड के बंगाही में शिविर लगाकर बैनर,पोस्टर एवं चिकित्सीय परामर्श के माध्यम से पशुपालकों को इस बीमारी के मद्देनजर सावधानियों एवं बचाव के प्रति जागरूक किया गया। पशुपालकों को पशु विशेषज्ञों ने बताया कि यह एक गंभीर वायरस जनित बीमारी है। जिसकी सटीक दवाई नहीं है। सिर्फ लक्षण के अनुसार इसकी दवाई दी जा सकती है। इसके लिए पशुपालकों को सतर्क रहने की जरूरत है, वरना इस बीमारी की चपेट में आने के बाद पशुओं का बचना मुश्किल है। चिकित्सकीय टीम ने किसानों का बताया कि लंपी त्वचा रोग के नाम से इसे जाना जाता है। जिसके अंतर्गत पशुओं को तेज बुखार,त्वचा में मोटी-मोटी गांठ पड़ना,आहार खाने में परेशानी, कमजोरी एवं दूध में कमी आदि इसके लक्षण हैं।

यह वायरस जनित बीमारी है,जो मच्छर,मक्खी के द्वारा एक पशु से दूसरे पशुओं में फैलती है। बीमारी से प्रभावित पशु को स्वस्थ पशुओं से अलग रखने और उपचार के लिए नजदीकी पशु चिकित्सा संस्थान से संपर्क करने की सलाह चिकित्सकों ने दी है। चिकित्सकों ने बताया कि इस बीमारी से बचाव के लिए पशुओं को नियमित रूप से पशुओं के बथान, खटाल या अन्य रखरखाव स्थलों पर नियमित रूप से साइपरमैथरीन और फिनाइल का स्प्रे करते रहना चाहिए। पशु आवास में नीम के पत्तों को जलाकर धुंआ करने चाहिए ताकि मक्खी और मच्छरों को भगाया जा सके। वहीं संक्रामक रोग से मृत पशुओं को गांव के बाहर डेढ़ मीटर गहरे गड्ढे में चुना या नमक के साथ दबाना चाहिए अन्यथा यह बीमारी फैलने का कारण बन सकता है।प्रशिक्षण के दौरान भ्रमणशील पशु चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. कुमार प्रफुल्ल चंद्रा, जिला नोडल पदाधिकारी डॉ अवधेश कुमार, पशु चिकित्सक डॉक्टर संतोष कुमार एवं प्रखंड नोडल पदाधिकारी डॉ आलोक कुमार शामिल थे। डॉ. आलोक कुमार ने बताया कि आज के कैंप में कुल 158 पशुओं का इलाज किया गया एवं 57 पशुपालकों को प्रशिक्षित किया गया।

deepak