समय से ड्यूटी पर नहीं पहुंचने वाले 36 पुलिसकर्मी सस्पेंड

img-20200419-wa0006-72781328379817793567.jpg
img-20200419-wa0000-85277475373482181001.jpg
img-20200419-wa0005-74006513932818183178.jpg


संवाददाता।नयी दिल्ली
दिल्ली में बकरीद के मौके पर ड्यूटी पर देर से पहुंचने वाले 36 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है।दिल्ली के नॉर्थ वेस्ट जिले की डीसीपी विजयंत आर्या ने यह कार्रवाई की है।डीसीपी ने सभी पुलिसकर्मियों को सुबह पांच बजे रिपोर्टिंग करने को कहा था।उस समय डीसीपी खुद वहां मौजूद थीं और पुलिसकर्मियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दे रही थीं।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 36 पुलिसकर्मी आधे घंटे देर से पहुंचे।इससे नाराज डीसीपी आर्या ने तत्काल सभी 36 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया।विजयंत आर्य ने कहा, ‘ईद-उल-अजहा के मौके पर पुलिस अधिकारियों को सुबह पांच बजे रिपोर्ट करना था,

लेकिन साढ़े छह बजे तक वह ड्यूटी पर नहीं आए।इस वजह से उन्हें निलंबित कर दिया गया है।पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कर्मियों को अगले आदेश तक निलंबित कर दिया गया है।निलंबित अधिकारियों के नाम सामने नहीं आये हैं।सभी निलंबित पुलिसवालों पर कर्तव्यपालन नहीं करने का चार्ज लगाया गया है। कोरोनावायरस संकट के बीच आज बकरीद के मौके पर दिल्ली में सभी जगहों पर लोगों को सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करवाने के लिए पुलिस के जवान मुस्तैद थे।

दिल्ली में कोरोना वायरस महामारी के बीच एहतियात बरतते हुए शनिवार को ईद-उल-अजहा का पर्व मनाया गया।इस मौके पर लोगों ने मस्जिदों में नमाज पढ़ी और पशुओं की कुर्बानी दी।मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली वासियों को ईद की बधाई दी।केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘ईद-उल-अजहा की आप सभी को दिली मुबारकबाद।महामारी के संकट के बीच लोग मास्क लगाकर मस्जिद गये और सामाजिक दूरी का पालन किया। नमाज पढ़ने के बाद लोगों ने एक दूसरे से हाथ मिलाने और गले लगने से परहेज किया।फजर की नमाज पढ़ने के लिए पुरानी दिल्ली में जामा मस्जिद और फतेहपुरी मस्जिद में बड़ी संख्या में लोग एकत्र हुए।

फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मुफ्ती मुकर्रम ने कहा, ‘मस्जिद में नमाज के दौरान लोगों ने मास्क लगाया था और सामाजिक दूरी का पालन किया।मस्जिद भर गयी थी लेकिन पिछले सालों के मुकाबले लोगों की संख्या कम थी क्योंकि सड़क पर नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं है.’ उन्होंने कहा, ‘ईद-उल-अजहा का मतलब है कुर्बानी की ईद. हमने महामारी से राहत, शांति और देश के विकास के लिए दुआ मांगी और कोविड-19 के एहतियात के साथ मस्जिदों में नमाज पढ़ने की इजाजत देने के लिए अधिकारियों का शुक्रिया अदा किया।

a2znews