एक्सक्लूसिव:मुंगेर के इस शहर में बिना मास्क पहने दुकानदार नहीं देंगे अब कोई सामान!

img-20200419-wa0006-72781328379817793567.jpg
img-20200419-wa0000-85277475373482181001.jpg
img-20200419-wa0005-74006513932818183178.jpg

तारापुर।संजय।
कोविड-19 कोरोनावायरस संक्रमण के बढ़ते असर की रोकथाम के लिए अनुमंडल प्रशासन द्वारा मंगलवार से सख्त कदम उठाए गए हैं. सरकार द्वारा सभी परिवारों को चार मास्क दिए जाने के बावजूद लोगों द्वारा उसका व्यवहार नहीं करने के कारण कोरोना रोकथाम बहुत कारगर सिद्ध नहीं हो रहा है. लॉकडाउन में छूट देने के बावजूद प्रशासन द्वारा सख्त निर्देश दिए गए हैं कि लोग घरों से बाहर मास्क पहन कर निकले इतना ही नहीं सामने वाले से बातचीत करने वक्त भी मास्क का प्रयोग करें अबतक असरहीन ही दिखता है. अब तारापुर में बगैर मास्क पहने कोई ग्राहक को दुकान में समान नही मिलेगा और न ही दुकानदार बिना मास्क के दुकान पर बैठ पाएंगे यहां तक कि यात्रा करनेवाले यात्री भी बिना मास्क यात्रा से वंचित कर दिए जाएंगे तो चालक भी बिना मास्क वाहन चलाते वक्त पकड़े जाने पर दंड के भागी होंगे.मंगलवार को अनुमंडल अधिकारी उपेंद्र सिंह के नेतृत्व में सड़कों पर उतरी

अनुमंडल कार्यालय से थाना चौक तक एसडीओ उपेन्द्र सिंह ,अपर एसडीओ वसीम अकरम ,अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी रमेश कुमार, भूमि उपसमाहर्ता इस्ताक अली अंसारी ने सभी दुकानो पर जाकर दुकानदारों को मास्क पहनकर सामान देने का निर्देश दिया. साथ ही कहा कि जो ग्राहक मास्क पहनकर आएं उन्हीं को सम्मान दें, सभी दुकानदार अपने-अपने दुकानों में सैनिटाइजर अवश्य रखें साथ ही दो गज की दूरी बनाकर ही कोई भी वस्तु देंगे.मौके पर रोककर साइकिल एवं मोटरसाइकिल सवार, चार पहिया वाहनों को रोक- रोककर उसमें बैठे सवारियों को मास्क पहनने का निर्देश दिया .सरकारी बस पड़ाव एवं जिला बस पड़ाव पर जाकर परिवहन कर्मियों को निर्देश दिया कि इस बात का ख्याल रखें कि कोई भी सवारी बस ऑटो में बिना मास्क नहीं बैठे।

साथ ही एक बार सवारी बैठने के बाद गाड़ी को सैनिटाइज करना जरूरी है ऐसा नहीं करने पर उनके विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी. एसडीपीओ रमेश कुमार ने बताया कि लगातार एक माह तक हेलमेट एवं मास्टर चेकिंग अभियान चलाया जाएगा तथा नहीं पहनने वालों को आर्थिक दंड दिया जाएगा .प्रशासन के अचानक उठाये सख्त कदम से बिना मास्क चलनेवाले लोगो एवं दुकानदारों में भय व्याप्त हो गया है,इसे सख्ती से लागू करवाना एक चुनौती स्वरुप मानी जा रही है.

a2znews