स्पॉट:बंदरा के हत्था एवं मुन्नी-बैंगरी पंचायत की सड़कों का नहीं हुआ जीर्णोद्धार, बरसात है शुरू;बाढ़ आने को है तैयार!

img-20200419-wa0006-72781328379817793567.jpg
img-20200419-wa0000-85277475373482181001.jpg
img-20200419-wa0005-74006513932818183178.jpg

दीपक कुमार तिवारी।

बात हम बिहार में मुज़फ़्फ़रपुर जिले के अतिपिछड़े प्रखण्ड बन्दरा की कर रहे हैं।सुशासन की सरकार में विकास कार्य की सच्ची बानगी देखनी हो तो इस प्रखण्ड के बॉर्डर क्षेत्र के गांवों को करीब से आकर देखना होगा।इन्हें देखकर सिस्टम में बैठे अधिकारीयों के ईमानदार कार्यशैली का अहसास भी हो जायगा।
प्रखंड में हत्था एवं मुन्नी बैंगरी पंचायत की गांव,बस्ती एवं आबादी बागमती नदी की विभीषिका से प्रभावित होते रही है। पिछले भी बाढ़ की तबाही की वजह से दोनों पंचायत की प्रायः सड़कें एवं पुलिया आदि जर्जर या ध्वस्त हो गई थी। बाढ़ की तबाही के बाबजूद जरूरी की कार्य योजनाओं पर जनप्रतिनिधियों एवं स्थानीय अधिकारियों ने कार्यवाई एवं सहायता के नाम पर औपचारिकता तथा खानापूर्ति पर ज्यादा बल दिया। इस बार भी जिले के बाकी कई प्रखण्ड क्षेत्र में बागमती की तबाही शुरू है बावजूद बन्दरा प्रखंड के स्थानीय कर्मचारियों, अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों ने इसे अब तक गंभीरता से नहीं लिया है।हत्था पंचायत क्षेत्र में कई सड़कें तो बनी हुई है लेकिन मुन्नी-बैंगरी पंचायत की बॉर्डर क्षेत्र से जोड़ने वाली सकरी मन,भिरारी,कोठी,खड़गपुर,कोठी हॉस्पिटल से टोले को जोड़ती सड़क आदि गांव,टोले एवं बस्तियों में सड़क निर्माण,पुलिया निर्माण आदि के सभी कार्य यूं ही पड़े हुए हैं। हल्की बरसात के साथ हीं तो जलजमाव से सकरी मन तथा भीरारी को जोड़ने वाली सड़क संपर्कहीन हो चुका है। कारण पिछले साल बाढ़ ने इस सड़क हो तोड़ दिया था।

पुलिया ध्वस्त हो गयी थी।जिसका निर्माण या मरम्मत आज तक नहीं हो सका। सकरी मन पुल से दक्षिण समस्तीपुर जिला से जोड़ने वाली दोनों सड़कें ध्वस्त हैं। मिड्ल स्कूल से पूरब जाने वाली सड़क के निर्माण पर भी खानापूर्ति कर दी गयी। सकरी मन महादलित बस्ती में जिस सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास हुआ उसका निर्माण नहीं हो सका। सकरी से हत्था गांव को जोड़ने वाली मुख्य सड़क में खनुआ टोला से आगे की सड़क का निर्माण नहीं कराया जा सका। हत्था से कल्याणनगर, त्रिमुहान,गगराहा तथा बदिया आदि की सड़कें भी संकरी हो चुकी आई। मुन्नी-बैंगरी पंचायत के सकरी मन गांव की सभी संपर्क सड़के अपूर्ण है।कई सड़क विवादों के कारण तनाव एवं संघर्ष भी बढ़ रही है।स्थानीय जनप्रतिनिधि के चुनाव में वोटिंग का फैक्टर तथा कार्यो को कराने में कमीशन के मानक को पूरा नहीं करना आदि फैक्टर इस इलाके के विकास में बाधक है।इस संबंध में बंदरा के बीडीओ अलख निरंजन का बताना है कि जहां के जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों के द्वारा कार्य योजना के प्रस्ताव पारित कराए जाते हैं।वहां कार्य कराई जा रही है। सीओ रमेश कुमार का दावा है कि बाढ़ पूर्व तैयारी की औपचारिक बैठक कर ली गई है। बन्दरा में बाढ़ की स्थिति नहीं रहती है।

a2znews