वर्चस्व की लड़ाई में कुख्यात की सोये अवस्था में गोली मारकर हत्या!

img-20200419-wa0006-72781328379817793567.jpg
img-20200419-wa0000-85277475373482181001.jpg
img-20200419-wa0005-74006513932818183178.jpg

सहरसा।संवाददाता
जिले के बनमा ईटहरी ओपी क्षेत्र के मुंदीचक गांव में आपसी वर्चस्व की लड़ाई में सोये अवस्था में गफ्फार मियां नामक कुख्यात अपराधी को गोलियों से छलनी कर दिया गया।इससे गफ्फर मियां की मौके पर ही मौत हो गयी. घटना ओपी क्षेत्र के मुंदीचक शर्मा टोला की है।अपराधियों ने सोमवार की अहले सुबह घटना को अंजाम दिया।घटना के संबंध में बताया जाता है कि सहरसा जिले के सलखुआ थाना क्षेत्र के मठ्ठा गांव निवासी रणवीर यादव और गफ्फार मियां के बीच वर्चस्व को लेकर पिछले कई वर्षों से लड़ाई चल रही थी।सोमवार की अहले सुबह करीब तीन बजे गफ्फार मियां की गोली मार कर हत्या कर दी गयी।वहीं, मृतक के पुत्र ने गांव के ही रणवीर यादव और उसके साथियों पर हत्या करने का आरोप लगाया है।मृत गफ्फार मियां सलखुआ थाना क्षेत्र के मठ्ठा गांव का ही रहनेवाला था।वह दर्जनों मामले का वांछित अपराधी बताया जा रहा है।घटना के संबंध में मृत गफ्फार के पुत्र ने बताया कि अब्बू अपने बेटे के साथ बनमा इटहरी प्रखंड के मुंदीचक शर्मा टोले में सोये हुए थे।इसकी खबर सलखुआ थाना क्षेत्र के मठ्ठा गांव निवासी रणवीर यादव को लग गयी।इसी दौरान रणवीर यादव अपने अन्य साथियों के साथ मौके पर पहुंचा और गफ्फार मियां को गोलियों से छलनी कर मौत के घाट उतार दिया।घटना की जानकारी बनमा इटहरी पुलिस को मिलते ही मौके पर पहुंच कर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है।साथ ही पुलिस मृत गफ्फार मियां के आपराधिक इतिहास को खंगालने में जुट गयी है।


बेटे ने 11 लोगों को बनाया नामजद, मामला दर्ज:
मो गफ्फार हत्याकांड में मृतक के पुत्र मो टीरो ने ओपी में आवेदन देकर 11 लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया है।आवेदन में कहा गया है कि मैं और मेरे चचेरा भाई मो तौकीर दोनों अब्बू मो गफ्फार के साथ मुंदीचक गांव के शर्मा टोला में रविवार की रात खाना खाने के बाद भजन शर्मा के दरवाजे पर एक ही मचान पर सो रहे थे।
सोमवार की अहले सुबह करीब दो बजे से तीन बजे के बीच सलखुआ थाना क्षेत्र के माठा निवासी रणवीर यादव, अपने सहयोगियों तेजो यादव, लवलेश यादव, दुलार यादव, छतीश यादव, गणेश यादव सभी के पिता स्वर्गीय विलास यादव एवं मुंदीचक गांव निवासी दिलीप यादव, संतोष यादव, नरेश यादव, मनोज यादव व विजय शर्मा समेत अन्य लोग हरबे हथियार से लैस होकर आये और घेर लिया।
मुंदीचक गांव निवासी संतोष यादव ने मुझे और मेरे चचेरे भाई को हथियार दिखाकर मचान से उतार लिया और घेर कर रखा।इसके बाद सभी ने मिलकर मेरे अब्बू को गहरी नींद में होने के कारण ताबड़तोड़ गोली चला कर छलनी कर दिया।इससे मेरे अब्बू की मौत घटनास्थल पर हो गयी।इस बाबत ओपी अध्यक्ष कमलेश कुमार सिंह ने बताया कि आवेदक के आवेदन पर प्राथमिकी दर्ज कर अनुसंधान प्रारंभ किया गया है।

a2znews