गिद्धौर सेंट्रल स्कूल में जिला प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रन वेलफेयर एसोसिएशन की हुई बैठक

img-20200419-wa0006-72781328379817793567.jpg
img-20200419-wa0000-85277475373482181001.jpg
img-20200419-wa0005-74006513932818183178.jpg

संवाददाता।गिद्धौर

सोमवार को निजी विद्यालय गिद्धौर सेंट्रल स्कूल में जिला प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रन वेलफेयर असोसिएसन की एक बैठक अध्यक्ष लक्ष्मण झा की अध्यक्षता में आहूत की गई।
बैठक में लॉक डाऊन की स्थिति में शिक्षा व्यवस्था को पुनःपटरी पर लाने के लिए उपस्थित संघीय सदस्यों ने आपसी विचार विमर्श किया। इस मौके पर बैठक में अपने संबोधन में निजी विद्यालयों में अध्यनरत बच्चों के अभिभावकों से आग्रह करते हुए कहा कि अभिभावक गण मार्च तक विद्यालय प्रबंधन का बकाया राशि का भुगतान करने की कृपा करें।

उन्होंने कहा है कि अप्रैल से अब तक जिला के सभी निजी विद्यालयों द्वारा बच्चों की शिक्षा बाधित न हो इसके लिए, ऑनलाइन शिक्षा बच्चों को विद्यालय प्रबंधन मुहैया करवा रही है। लेकिन बच्चों के अभिभावकों द्वारा विद्यालय के बकाया राशि का भुगतान नही किये जाने से प्रबंधन में कार्यरत शिक्षकों को वेतन भुगतान में समस्या का सामना करना पड़ रहा है, जिसके चलते शिक्षक भुखमरी के कगार पर हैं। वहीं विद्यालय प्रबंधन की आर्थिक स्थिति भी दयनीय होती जा रही है। इसलिए प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रन वेलफेयर असोसिएसन आप सभी अभिभावकों से आग्रह करती है कि प्रबंधन बच्चों की शिक्षा व शिक्षक हित को ध्यान में रखते हुए विद्यालय के बकाया राशि का भुगतान करने का कष्ट करें। वहीं संघ के जिला महामंत्री विजय सिंह ने बैठक के दौरान कहा कि विद्यालय के शिक्षक बच्चों की शिक्षा बाधित न हो इसके लिए ऑनलाइन शिक्षा देकर उनके पाठ्यक्रम को पूरा करने में अपनी महती भूमिका निभा रहे हैं। अभिभावकों द्वारा प्रबंधन को बकाया फीस नही देने से शिक्षकों को वेतन भुगतान में समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

अगर यही स्थिति रही तो आने वाले दिनों में ऑनलाइन शिक्षा को भी तत्काल बंद कर दिया जाएगा। वहीं बैठक में असोसिएसन के उपाध्यक्ष अमर सिंह ने यह आग्रह किया है कि कुछ व्यक्तियों द्वारा आप अभिभावकों को भ्रमित किया जा रहा है कि विद्यालय प्रबंधन को फीस नही देना है नए सत्र में दूसरे विद्यालय में नामांकन करवा लेना है। इससे बच्चों की शिक्षा पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। इसलिए इन परिस्थितियों को देखते हुए असोसिएसन ने यह तय किया है कि दो वर्षों तक निजी विद्यालय में नामांकन कराने से पूर्व किसी भी अभिभावक द्वारा बकाया राशि का भुगतान का प्रमाण पत्र विद्यालय प्रबंधन को समर्पित करना पड़ेगा। तभी उनका नामांकन विद्यालय में लिया जाएगा। बैठक में संघ के सदस्य विस्वास कुमार ने अपने संबोधन में अभिभावकों से बच्चों की शिक्षा बाधित न हो इस पर गंभीरता से प्रबंधन के बकाया राशि का भुगतान करने का अनुरोध किया।

a2znews