टूटा मिथक: कोरोना_कहर_के_कारण_पत्नी_ने_दी_पति_को_मुखाग्नि!

img-20200419-wa0006-72781328379817793567.jpg
img-20200419-wa0000-85277475373482181001.jpg
img-20200419-wa0005-74006513932818183178.jpg

संवाददाता। मधुबनी/पटना(बिहार)।

कोरोना ने समाज के मिथक को तोड़ा। बदली सदियों की पुरानी परंपरा। ख़बर बिहार के मधुबनी की है।मधुबनी जिले के लखनौर प्रखंड के जोरला-बेला गांव में छह संतानों के पिता अशर्फी मंडल उर्फ बौआ मंडल का निधन हो गया। लॉकडाउन में बच्चे घर नहीं आ सके तो उनकी अर्द्धांगिनी कौशल्या देवी अपनी दोनों बहुओं को साथ लेकर पति की अर्थी के साथ निकल पड़ीं। पति को मुखाग्नि दी, समाज ने साथ दिया तो विधि -विधान से पूरा कर्मकांड भी किया। कौशल्या ने कहा कि अग्नि के सात फेरे लेकर जीने -मरने की शपथ ली थी। साथ जी लिए, लेकिन मरी नहीं। खुद को धन्य समझती हूं कि पति को अपने हाथों अंतिम विदाई दे सकी।

a2znews