कोरोना के गंभीर हालत वाले पॉजिटिव मरीजों को अब भेजा जायेगा एनएमसीएच पटना

img-20200419-wa0006-72781328379817793567.jpg
img-20200419-wa0000-85277475373482181001.jpg
img-20200419-wa0005-74006513932818183178.jpg

संवाददाता।मुंगेर

बिहार के मुंगेर जिले में कोरोना के गंभीर हालत वाले पॉजिटिव मरीजों को अब भागलपुर स्थित जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पीटल के बदले पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पीटल में भेजा जायेगा. वहीं सामान्य हालत वाले पॉजिटिव मरीजों का इलाज मुंगेर में ही होगा. इस संदर्भ में स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक आदेश भी जारी किया गया है. सिविल सर्जन डॉ पुरुषोत्तम कुमार ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार जिन लोगों का कोरोना जांच रिर्पोट पॉजिटिव पाया जाता है. उसमें से सामान्य हालत वाले मरीजों का इलाज अब मुंगेर के आइसोलेशन वार्डों में ही होगा. जबकि जिन पॉजिटिव मरीजों को स्थिति ज्यादा गंभीर होगी. वैसे मरीजों को अब भागलपुर में नहीं, पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पीटल भेजा जाएगा. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक आदेश भी जारी किया गया है.
उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में दो और द्वितीय चरण में चार लोगों की जांच रिर्पोट पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा अबतक लगभग 200 से अधिक संदिग्ध लोगों की जांच करायी गयी है, जिसमें से सभी की जांच रिर्पोट निगेटिव पायी गयी है. लेकिन अब भी हमें इस वायरस को लेकर पूरी तरह सर्तक रहने की आवश्यकता है. साथ ही लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग नियम का पालन करना है. तभी हम पूरी तरह इस वायरस के चक्र से मुक्त हो पाएंगे. वहीं, इसके लिए आम लोगों को भी पूरी तरह से जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग का साथ देने की आवश्यकता है. स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगातार संदिग्ध लोगों की सूची बनाकर उनके सैंपल की जांच करायी जा रही है.
अबतक 71 लोगों को भेजा गया अपने-अपने घर
मुंगेर के जीएनएम स्कूल कोरोनटाइन वार्ड और गोयनका धर्मशाला कोरोनटाइन वार्ड में भर्ती 118 लोगों में से अबतक 71 लोगों को जिला प्रशासन द्वारा अपने-अपने घर भेजा गया है. यह जानकारी सिविल सर्जन डॉ पुरुषोत्तम कुमार ने दी. उन्होंने बताया कि 3 अप्रैल को 118 लोगों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद इन दोनों कोरोनटाइन वार्ड में भर्ती 71 लोगों को अपने-अपने घर भेजा गया है. साथ ही इन लोगों को स्वाब जांच के दिन से अगले 14 दिनों तक होम कोरोनटाइन में रहने की सलाह दी गयी है. इसमें जीएनएम स्कूल कोरोनटाइन वार्ड में भर्ती कुल 81 लोगों में से 46 लोग हैं, जबकि गोयनका धर्मशाला कोरोनटाइन वार्ड में भर्ती 37 लोगों में से 25 लोग हैं. वहीं इसके बाद अब जीएनएम स्कूल में 35 और गोयनका धर्मशाला कोरोनटाइन वार्ड में 12 लोग भर्ती है. सिविल सर्जन ने बताया कि इन वार्ड में वर्तमान में केवल वे लोग ही भर्ती हैं. जो मो. सैफ और जिन 6 लोगों का जांच रिपोर्ट पॉजिटिव पाया गया है. उनके अत्यधिक संपर्क में आने वाले लोग हैं.

a2znews