नीतीश ने 100 करोड़ का कोरोना फंड जारी किया,राज्य में संक्रमितों की संख्या 6 हुई

संवाददाता।पटना

बिहार में 21 दिन तक चलने वाले लॉकडाउन का आज दूसरा दिन है। पटना, भागलपुर, गया, मुजफ्फरपुर समेत पूरे बिहार में लॉकडाउन का असर दिख रहा है। सुबह लोग घर से बाहर राशन, सब्जी और दूध खरीदने निकले, दिन चढ़ने के साथ सड़क पर सन्नाटा देखा गया। प्रशासन लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्ती कर रहा है। कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना फंड के लिए 100 करोड़ रुपए जारी किए हैं। ये पैसे मुख्यमंत्री राहत कोष के हैं। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद बिहार प्रभारी बनाए गए। प्रसाद बिहार और केंद्र सरकार के बीच समन्वय का काम करेंगे। प्रसाद राज्य के सभी डीएम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करेंगे।
लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले 41 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है और 9 को गिरफ्तार किया गया है। उधर, राज्य में कोरोना संक्रमण के अब तक 6 मामले सामने आ चुके हैं। उधर, राज्य में मुंगेर के जिस युवक की जान गई थी, उसके घर की एक महिला और पड़ोसी के एक बच्चे की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। महिला 38 साल की है, जबकि बच्चे की उम्र 12 साल है। 38 साल का सैफ अली के संपर्क में आने वाले 56 लोगों की जांच कराई गई है।

404 सैंपल की हुई जांच:

बिहार में 404 सैंपल की जांच की गई है। राज्य के 1228 लोगों को सर्विलांस पर रखा गया है, जिसमें 183 गोपालगंज के हैं। कोरोना से लड़ने के लिए स्वास्थ्य सेवाओं को भी विस्तार दिया जा रहा है। पटना के आईजीआईएमएस में कोरोना की जांच शुरू हो गई है। वहीं, दरभंगा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में भी जल्द ही जांच की सुविधा शुरू की जाएगी। पुलिस ने लॉकडाउन का उलंघन करने के चलते 531 गाड़ियों को जब्त किया है। लॉकडाउन के चलते पूरे बिहार से राशन और आलू-प्याज की कालाबाजारी की खबर आई। कालाबाजारी पर रोकथाम के लिए प्रशासन की टीम छापेमारी कर रही है। इसके साथ ही हेल्प लाइन नं. (0612-2249964) भी जारी किया गया है। लोग इसपर कॉल कर कालाबाजारी की शिकायत कर सकते हैं।मुंगेर में एक संदिग्ध की मौत:

मुंगेर में बुधवार को एक संदिग्ध की जान चली गई। यह जिला सदर अस्पताल में लाल दरवाजा गीताबाबू रोड के पास रहता था। ऐसा कहा जा रहा है कि वह कोरोना से पीड़ित था। हालांकि, इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। मौत के बाद अस्पताल का स्टाफ और स्थानीय लोग इस कदर भयभीत दिखे कि मृतक के शव को एम्बुलेंस पर लादने के लिए कोई तैयार नहीं था। डॉक्टर ने बताया कि युवक के परिजनों के अनुसार, वह एक माह पहले दिल्ली से आया था। उसे बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ थी। ट्रैवल हिस्ट्री और कोरोना वायरस के लक्षण को देखते हुए सदर अस्पताल में ही दो बार आइलोशन में जाने की सलाह दी गई थी और उसे सैंपल जांच के लिए भागलपुर भेजा गया था, लेकिन मरीज भागलपुर नहीं गया।पटना में होम डिलेवरी के लिए बढ़ेगी सप्लाई चेन:

राजधानी में लोगों को राशन और अन्य जरूरी सामान की किल्लत न हो इसके लिए होम डिलेवरी के लिए सप्लाई चेन बढ़ाई जा रही है। डीएम कुमार रवि ने कहा, ‘जिले में आवश्यक सामग्री का पर्याप्त स्टॉक है, इसलिए पैनिक होने की जरूरत नहीं है।आवश्यक सामग्री ढोने वाले वाहनों को पास जारी होगा। शहर में आवश्यक सामग्री की आपूर्ति कराने के लिए सदर एसडीओ, दानापुर एसडीओ के साथ पटना सिटी एसडीओ पास जारी करेंगे।’
पटना में दुकानदार ग्राहकों को एक-दूसरे से दूर खड़े होने के लिए दुकान के बाहर गोल घेरा बना रहे हैं। पीएमसीएच के इमरजेंसी के पास दुकानदारों ने दुकान के सामने गोल घेरा बनाया है। वे ग्राहकों को दूरी बनाकर समान ले जाने की अपील कर रहे हैं। इसी तरह पटना नगर निगम ने कंकड़बाग इलाके में सब्जी और फल दुकानों के आगे गोल घेरा बनाया है। खरीदारी करने आए लोग निर्धारित घेरे में खड़े होकर सामान खरीदते देखे गए।हाजीपुर में मवेशी चारा की किल्लत, सीवान में युवकों की पिटाई:

हाजीपुर में लॉकडाउन के चलते मवेशी के चारा की कमी हो गई है। पहले चारा 5-6 रुपए किलोग्राम मिलता था उसके लिए अभी 15-20 रुपए किलोग्राम तक चुकाना पड़ रहा है। आटा, चावल और दाल की कीमत में भी बढ़ोत्तरी देखी गई। फलों और सब्जियों के दाम भी बढ़े हैं। प्रशासन कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ छापेमारी कर रही है। पुलिस ने कई जगह लॉकडाउन का उलंघन कर सड़क पर घूम रहे युवकों पर लाठीचार्ज किया।
सीवान में लॉकडाउन के चलते शहर से लेकर गांव तक सड़कों पर सन्नाटा है। पुलिस मुख्य चौक-चौराहों पर तैनात है और गश्त भी कर रही है। पुलिस सड़क पर बेवजह निकले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर रही है। कई जगह बाइक सवारों को पीटा गया है। युवकों से चौराहे पर उठक-बैठक कराई गई है।
आरा में कालाबाजारी की खबर, पुलिस ने कार्रवाई की:

आरा में लॉकडाउन प्रभावी है। कुछ जगहों पर लॉकडाउन के बाद भी लोग घरों से बाहर निकले हैं, पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। शहर में आवश्यक सामग्री की किल्लत नहीं है। कुछ जगह पर कालाबाजारी की सूचना पर छापेमारी हुई है। प्रशासन ने रेट-चार्ट का निर्धारण कर दिया है। कुछ जगह सब्जियों और आटा की कीमतों में वृद्धि हुई है। रसोई गैस की किल्लत नहीं है।

a2znews