प्रियंका गांधी की सुरक्षा में सेंध मामले में बोले अमित शाह- तीन सुरक्षा कर्मी निलंबित, उच्च स्तरीय जांच जारी

 

संवाददाता।  नयी दिल्ली।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के सुरक्षा घेरे में सेंध के मामले में तीन सुरक्षा कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है और घटना की उच्च स्तरीय जांच की जा रही है. गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को राज्यसभा में यह जानकारी दी.शाह ने उच्च सदन में विशेष सुरक्षा बल (संशोधन) विधेयक पर चर्चा का जवाब देते हुए बताया कि 25 नवंबर को प्रियंका गांधी की सुरक्षा कर रहे सुरक्षा अधिकारियों को यह जानकारी मिली थी कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी काली सफारी में उनसे मिलने आ रहे हैं. उन्होंने बताया कि एसपीजी सुरक्षा प्राप्त राहुल गांधी और प्रियंका के पति राबर्ट वाड्रा के वाहनों की आवश्यक जांच आम तौर पर नहीं होती. उन्होंने कहा कि यह एक संयोग ही था कि उसी वक्त मेरठ की कांग्रेस की एक महिला नेता चार अन्य कार्यकर्ताओं के साथ काली सफारी में प्रियंका के आवास पर पहुंच गयीं और सुरक्षा कर्मियों ने राहुल गांधी का वाहन समझकर उनके वाहन की जांच नहीं की. उन्होंने कहा कि इन लोगों का काले रंग के सफारी वाहन में वहां पहुंचना महज एक संयोग था.

गृह मंत्री ने कहा कि इस संयोग के बावजूद प्रियंका गांधी की सुरक्षा में लगे तीन कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है और इस मामले में उच्च स्तरीय जांच चल रही है. विधेयक पर चर्चा के दौरान कांग्रेस के बीके हरिप्रसाद सहित कुछ सदस्यों ने प्रियंका की सुरक्षा घेरे में सेंध लगाये जाने पर गहरी चिंता जताते हुए इस बारे में सरकार से कई सवाल पूछे थे. इन सवालों की ओर इशारा करते हुए शाह ने कहा कि कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की सुरक्षा का मामला काफी महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि बेहतर होता कि कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा की सुरक्षा से जुड़े इस अति महत्वपूर्ण मामले को संसद में उठाने या मीडिया में जाने के बजाय उन्हें, सीआरपीएफ या कांग्रेस नेता की सुरक्षा पर निगरानी रख रहे आईजी स्तर के अधिकारी को पत्र लिखकर उन्हें इस बात की सूचना देते.

a2znews