BREAKING: बड़ा हादसा टला, सहरसा से पूर्णिया जा रही मालगाड़ी हुई बेपटरी, कई ट्रेनें हुई प्रभावित!

 

संवाददाता । सहरसा।

बिहार में सहरसा से पूर्णिया जा रही 52 कोच की मालगाड़ी बुधवार को सहरसा जंक्शन से खुलते ही बेपटरी हो गयी. मालगाड़ी जैसे ही कोचिंग डिपो से गुजरते हुए यू टर्न हो रही थी. अचानक चार कोच बेपटरी हो गया. घटना के वक्त रेलवे ट्रैक के दोनों ओर रेल कर्मचारी काम कर रहे थे. दोपहर 1:15 पर जैसे ही मालगाड़ी यू टर्न ले रही थी कि पीछे का गार्ड ब्रेक छोड़कर चार कोच धड़ाधड़ पटरी से उतर गया. अचानक तेज आवाज सुनकर रेल कर्मचारी काम छोड़कर जान बचाकर भागे. आसपास के लोग ट्रेन गिरा, ट्रेन गिरा कह कर चिल्लाने लगे और और भाग खड़े हुए. हादसे में ड्राइवर और गार्ड विवेक कुमार सही सलामत हैं. किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है.

घटना की सूचना मिलते ही हाजीपुर जोन के जीएम एलसी त्रिवेदी ने उच्चस्तरीय जांच के आदेश दे दिये हैं. वहीं, घटना की खबर मिलते ही स्टेशन अधीक्षक नीरज चंद्रा, आरपीएफ सब इंस्पेक्टर एमएम रहमान, एसआई बीके मिश्रा सहित सभी विभागों के आला अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंचे. आसपास स्थानीय लोगों के भी काफी भीड़ लग गयी थी. समस्तीपुर डिवीजन के कई अधिकारी दोपहर दो बजे समस्तीपुर से सहरसा के लिए रवाना हुए.

वहीं पावर डीएमई चंद्रशेखर प्रसाद कोच को उठाने के लिए क्रेन लेकर सहरसा जंक्शन के लिए रवाना हुए. समस्तीपुर डिविजन से एक्सीडेंट रिलीफ ट्रेन की टीम भी सहरसा जंक्शन के लिए रवाना हुई. खबर लिखे जाने तक शाम पांच बजे तक कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचे थे.

उच्च स्तरीय जांच के आदेश:

जीएम ने घटना के उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिये हैं. साथ ही चार घंटे के अंदर क्रेन से कोच को उठाकर सहरसा-पूर्णिया रेलखंड पर परिचालन शुरू करने का निर्देश जारी किया था. हालांकि, यह संभव नहीं हो पाया. इधर, अधिकारियों की सूचना मिलते ही सीनियर डीएसओ प्रवीण कुमार, सीनियर डीएन कॉर्डिनेशन आरआर झा, सीनियर डीएन थ्री मयंक अग्रवाल सहित समस्तीपुर से कई आला अधिकारी दोपहर दो बजे रवाना हुए थे. खबर लिखे जाने तक अधिकारी नहीं पहुंचे थे. वहीं जांच का जिम्मा सीनियर डीएसओ को सौंपा गया है.

बड़ा हादसा टला:

जिस समय मालगाड़ी का कोच पटरी से उतर गया था. उसके समीप कई कर्मचारी आसपास ट्रैक का काम कर रहे थे. अचानक तेज आवाज सुनकर सभी घबरा गये और सभी काम छोड़ जान बचाकर भागे. सहरसा-मधेपुरा और मधेपुरा से मानसी रेलखंड के बीच देर शाम तक विद्युत कनेक्शन कटा रहा. बताया जा रहा है कि जिस समय मालगाड़ी का कोच पटरी से उतरा, दो कोच पटरी से बाहर हुई व दो रेलवे ट्रैक पर ही रह गया. इसके अलावा एक कोच का पहिया खुलकर बाहर हो गया. वहीं पटरी से उतरा कोच रेलवे ट्रैक के पास ही रेलवे विद्युत हाई मास्ट खंभे से जाकर टकराया. जिससे खंभा पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. सहरसा से बैजनाथपुर रेलवे ट्रैक के ऊपर से गुजर रही विद्युत तार टूट कर मालगाड़ी के दो से तीन कोच में उलझ गयी. आनन-फानन में सहरसा से मधेपुरा और सहरसा से मानसी के बीच विद्युत कनेक्शन को काट दिया गया. ताकि कोई और हादसा ना हो.

सहरसा-मानसी और मधेपुरा के बीच कई ट्रेनें हुई प्रभावित
मिली जानकारी के अनुसार घटना के बाद सहरसा से पूर्णिया रेलखंड के बीच कई ट्रेनें प्रभावित रही. पूर्णिया से सहरसा आने वाली 55571 पैसेंजर ट्रेन बुधमा स्टेशन पर ही रोक दी गयी. अमृतसर से सहरसा होकर बनमनखी जाने वाली जनसेवा एक्सप्रेस मानसी स्टेशन पर ही रोक दी गयी थी. इसके अलावा सहरसा से पूर्णिया जाने वाली पैसेंजर ट्रेन का परिचालन रोक दिया गया. हादसा मेन लाइन पर हुआ था. वहीं गरीब रथ एक्सप्रेस सोनबरसा कचहरी स्टेशन पर खड़ी रही. इंटरसिटी एक्सप्रेस सिमरी बख्तियारपुर स्टेशन पर व समस्तीपुर से सहरसा आने वाली डीएमयू ट्रेन कोपरिया स्टेशन पर घंटों खड़ी रही. इस दौरान यात्रियों को काफी परेशानी हुई.

डीजल इंजन से सहरसा जंक्शन लायी गयी गरीब रथ एक्सप्रेस:
विद्युत कनेक्शन काटने के बाद गरीब रथ एक्सप्रेस जो कि अमृतसर से सहरसा विद्युत इंजन से आती है, घटना के बाद कचहरी स्टेशन पर घंटों खड़ी रही. बाद में सहरसा जंक्शन से डीजल इंजन भेजा गया. जिसके बाद गरीब रथ में जोड़कर ट्रेन सहरसा लायी गयी. जनसेवा एक्सप्रेस भी विद्युत इंजन से चलायी जाती है. लेकिन डीजल इंजन उपलब्ध ना होने की वजह से खबर लिखे जाने तक यह ट्रेन मानसी जंक्शन पर खड़ी थी.

हावड़ा से भेजी गयी थी मालगाड़ी:

अधिकारियों ने बताया कि हाल ही में मालगाड़ी हावड़ा से भेजा गया है. ट्रायल पर इस रेलखंड पर भेजा गया है. बुधवार को यह माल गाड़ी सहरसा से पूर्णिया जा रही थी. रेल अधिकारियों ने अंदेशा जताया कि मालगाड़ी का मेंटेनेंस नहीं हुआ था या रेलवे ट्रैक में भी गड़बड़ी होगी. जिस वजह से यह हादसा हुआ है. इसके अलावा पहले दृष्टिकोण में यह भी अंदेशा जताया जा रहा है कि सहरसा जंक्शन से ट्रेन खुली बैजनाथपुर जाने के क्रम में कोचिंग डिपो के पास यू-टर्न है, जहां ट्रेन की स्पीड अधिक होगी. जिस वजह से मालगाड़ी बेपटरी हुई. बताया जा रहा है कि यू टर्न के पास 30 किलोमीटर अधिकतम स्पीड निर्धारित है. इस मामले में मालगाड़ी के चालक और गार्ड से भी पूछताछ की जायेगी. ट्रेन स्पीड चार्ट भी देखा जायेगा. ताकि घटना की वजह की जानकारी मिल सके.

क्या कहते है अधिकारी:

घटना की पूरी जानकारी मिली है जांच के आदेश दे दिए गये हैं. अधिकारियों की टीम मौके के लिए निकल चुकी है. हर तरीके से जांच होगी. मामले में गार्ड और चालक सहित संबंधित जो भी अधिकारी हैं, उससे भी पूछताछ होगी. जो भी दोषी कर्मचारी होंगे, उन्हें बख्शा नहीं जायेगा (वीरेंद्र कुमार, सीनियर डीसीएम, समस्तीपुर डिविजन)

a2znews