मोतिहारी के कार्यक्रम में बोले कृषि मंत्री,किसान अब शून्य बजट निवेश पर करेंगे खेती!

 

*पूर्व केंद्रीय मंत्री ने किया किसान जागरूकता कार्यक्रम को संबोधित

*कई योजनाओं का हुआ उद्घाटन व शिलान्यास

तस्वीर साथ में

नरेंद्र झा । पीपराकोठी।

किसान अब शून्य बजट निवेश पर खेती करेंगे। जिसका व्यय केंद्र व राज्य सरकार वहन करेगी। केन्द्रीय कृषि मंत्री ने यह बात केवीके में किसान जागरूकता सम्मेलन के लिए आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर कही।कार्यक्रम मुजफ्फरपुर लीची अनुसंधान संस्थान के सौजन्य से आयोजित किया गया। कहा कि किसान 150 का समूह बना कर जैविक खेती करें। जो केवीके के देखरेख में शून्य बजट पर होगा। अपने जन्मदिन के मौके पर कहा कि अपने जन्मदिन के अवसर पर वे आंगनबाड़ी के बच्चों को अंडे व पोष्टिक भोजन कराया।

कहा कि बच्चे स्वास्थ्य होंगे तो देश स्वास्थ्य होगा। इसकी परिकल्पना अटलबिहारी बाजपेयी ने थी। लोगों से आह्वान किया कि सभी गरीब गर्भवती को पोष्टिक भोजन कराएं। कश्मीर की चर्चा करते हुए कहा कि वहां के गरीब परिवार के बच्चों व गर्भवती महिलाओं को इसका लाभ नहीं मिल पाता था। जिसे हमारे प्रधानमंत्री ने असंभव को संभव कर 370 धारा हटा कर किया। किसानों से अपील की कि दो अक्टूबर से समूह बना कर जैविक खेती आरम्भ करें।

जिसमें कम लागत व स्वस्थ उत्पादन से भविष्य सुरक्षित होगा। उन्होंने मृदा हेल्थ कार्ड, जल संकट व तकनिकपूर्ण खेती की चर्चा की।कहा कि महात्मा गांधी के सपनों को साकार करना सभी नागरिकों का दायित्व है।मौके पर किसानों को लीची का एक-एक पौधा वितरित किया गया। मौके पर पावरग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लि. के कई योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास किया।

इन योजनाओं का हुआ उद्घाटन:

सगहरी पुल से मुजफ्फरपुर बॉर्डर तक सड़क निर्माण, ग्राम नरहा में दो जगहों पर सड़क निर्माण, पीपराकोठी आंगनबाड़ी केंद्र का चहारदीवारी निर्माण, बुनियाद रखी गयी।

a2znews