जंगली जानवरों के आतंक से किसान को मुक्त करावे सरकार : अजीत

 

संवाददाता। कांटी/मड़वन (मुजफ्फरपुर) ।

केंद्र व राज्य सरकार यदि बिहार के किसान-मजदूर का हितैषी है, तो फौरन उन्हें जंगली जानवरों के आतंक से मुक्त कराबे। डीजल अनुदान, बीज में सब्सिडी एवं अन्य सरकारी सुविधा जानवरों के आतंक के आगे किसानों के लिए कोई मायने नहीं रखता है । स्थिति है कि किसान कर्ज लेकर फसल, पेड़- पौधा, फलदार वृक्ष, केला, सब्जी लगा रहे हैं, लेकिन जंगली जानवर फल लगने से पहले ही फसल बर्बाद कर रहा है। जिस कारण किसानों का पूँजी तो समाप्त हो ही रहा है वे मानसिक रूप से पूरी तरह बदहाल हो गए हैं । सरकार यदि समय रहते जंगली जानवरों के आतंक से किसान – मजदूरों को मुक्त नहीं करायी तो आने वाले दिनों में किसान अन्य राज्यों की तरह आत्महत्या करने पर मजबूर हो जाएंगे। वहीं कृषि योग्य भूमि बंजर हो जाएगी। फिर दाने-दाने के लिए लोग मोहताज होंगे।


उक्त बातें रविवार को काँटी क्षेत्र के बिशुनपुर पीरमियां, साइन छपरा देवानंद, करजा नया टोला, वडकागाँव भररा, वडकागाँव देवीगंज आदि गांव में लोगों को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री ई0अजीत कुमार ने कहा । उन्होंने कहा कि इन दिनों गांव के छोटे एवं मध्यवर्गीय बहुसंख्यक किसान खेती छोड़ जीविका चलाने के लिए मजदूरी करने पर विवश है। गांव में किसानों के खेत काम नहीं मिलने के कारण मजदूर रोजी – रोटी के लिए दूसरे प्रदेश की ओर पलायन कर गए हैं। केंद्र द्वारा प्रायोजित मनरेगा योजना इन दिनों टाय – टाय फिश है । इस योजना की स्थिति है कि वर्षों पूर्व मजदूरों द्वारा किए गए काम का भुगतान भी आज तक नहीं हो पाया है ।


उन्होंने कहा की यह स्थिति काफी दु:खद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है । इसका खामियाजा आने वाले दिनों में सरकार को भुगतना पड़ेगा। उन्होंने लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि आप अब हाथ पर हाथ धर के यदि बैठे रहे तो अभी तो जंगली जानवरों ने आपको लूटा है कल आपका अस्तित्व ही समाप्त हो जाएगा।


सभा की अध्यक्षता क्रमशः मोहम्मद मोतिउर रहमान, दशरथ पटेल, मडबन प्रखड मछुआ सहयोग समिति के सचिव शिवजी सहनी,परशुराम पंडित,सुरेश शाह ने किया।
इस अवसर पर सभा को रामसरन सहनी, मुनीलाल सहनी , रंजीत सिंह ,विनोद राय नागेंद्र गिरी, सुशील कुमार बालाजी, प्रेम शंकर, संतोष कुमारकुमार्गी चौधरी, जितेंद्र कुमार, मोहम्मद मुस्तफा , मोहम्मद वकील, मोहम्मद जियाउद्दीन, प्रवेज आलम , शत्रुघ्न सिंह, अरविंद कुमार पटेल, सुधीर कुमार पटेल, चंदेश्वर पटेल, बैजू कुमार साह आदि लोगों ने संबोधित किया।

a2znews