बिहार में फसल सहायता योजना के लिए किसान 15 सितंबर तक करा सकेंगे निबंधन

संवाददाता । पटना(बिहार)।

फसल सहायता योजना के लिए निबंधन की तिथि 15 सितंबर तक बढ़ेगी। एक दो दिनों में सहकारिता विभाग अधिसूचना जारी कर देगा। इसके पहले फसल सहायता योजना के लिए निबंधन की अंतिम तारीख 31 जुलाई निर्धारित की गई थी। सहकारिता मंत्री राणा रणधीर ने बताया कि निबंधन की तिथि बढ़ा कर 15 सितंबर तक कर दिया जाएगा। अधिक से अधिक किसानों को इस योजना का लाभ दिलाने का प्रयास है। इस योजना में एक प्रतिशत से 20 प्रतिशत तक फसल की क्षति होने पर किसानों को प्रति हेक्टेयर 7.5 हजार रुपए मुआवजा मिलेगा। 20 प्रतिशत से अधिक क्षति पर प्रति हेक्टेयर 10 हजार रुपए मुआवजा मिलेगा।


योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को किसी प्रकार की प्रीमियम या अन्य कोई राशि नहीं देना है। इसमें रैयत और गैर रैयत (बटाईदार) किसान अधिकतम 2 हेक्टेयर तक मुआवजा ले सकते हैं। इस योजना में शामिल होने के लिए किसानों को निबंधन कराना जरूरी है। पहले से निबंधित किसानों को दुबारा निबंधन नहीं कराना है, बल्कि सेल्फ डिक्लरेशन देना होगा कि कितनी खेत में कौन सी फसल लगायी है। निबंधन के लिए किसान का आधार और मोबाइल नंबर जरूरी है। कृषि या सहकारिता विभाग में निबंधित किसान इस योजना के हकदार होंगे। पंचायत स्तर पर चार फसल कटनी के आधार पर पिछले 7 वर्षों के उत्पादन का औसत के आधार पर फसल क्षति का आकलन होगा।

a2znews