हत्या या आत्महत्या?बेटी के डॉक्टर बनने का सपना रह गया अधूरा,पढ़े पूरी स्टोरी..!

 

धीरज सिन्हा। शेखपुरा(बिहार)।

शेखपुरा जिले के बरबीघा थाना क्षेत्र के मशहूर किताब दुकानदार तथा महादेवगंज मुहल्ला निवासी प्रदीप कुमार की बड़ी बेटी ने कोटा में डॉक्टरी पढ़ने के दौरान कर ली खुदखुशी। परिजनों का सपना यमराज को नही भाया। बरबीघा शहर के प्रमुख निजी शिक्षण संस्थान संत मैरिज स्कूल से इसी वर्ष दशवीं की परीक्षा उतीर्ण होने के बाद मेडिकल की तैयारी करने के लिए पिछली माह प्रदीप कुमार की 17 वर्षीय पुत्री सोनाली कोटा चली गई। लेकिन कोटा गए मुश्किल से एक माह बीते ही थे कि अचानक कोटा से सोनाली के हॉस्टल इंचार्ज ने मोबाइल से उनके पिता को खबर दी कि उनकी बेटी गले मे फांसी का फंदा लगाकर सुसाईट कर ली है।

ऐसी मनहूस खबर मिलते ही प्रदीप कुमार के घर मे मातमी सन्नाटा छा गया और पूरे परिवारवालों के द्वारा घर की बड़ी बेटी के लिए संजोया सपना बालू की रेत से बने महलों की तरह धराशाई हो गया। प्रदीप कुमार के परिवार में सोनाली दो बहन और एक भाई में सबसे बड़ी थी।वह अपने स्कूल में भी काफी तेज तर्रार थी। घटना की खबर मिलने के बाद जब प्रदीप कुमार एवम अन्य कोटा पहुंचे तो उनकी पुत्री सोनाली की लाश बर्फ में पुलिस कस्टडी में था। होस्टल प्रबंधन का कहना है कि 10 जुलाई को सोनाली कोचिंग करने के बाद हॉस्टल लौटी और मध्याह्न 12 बजे भोजन करके अपने कमरे में आराम करने चली गई।

उसी दौरान उसने कमरे का दरवाजा अंदर से बन्द करके गले मे फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर लिया। जिसका पता उन्हें शाम 5 बजे लगा। जबकि मृतका के पिता का कहना है कि मेरी बेटी ने आत्महत्या नही की है। बल्कि उसकी हत्या कर उसे आत्महत्या का स्वरूप तथ्य को छुपाने के लिए दिया जा रहा है। उनका कहना है कि जिस कमरे में उनकी पुत्री की लाश मिली । उस कमरे के अंदर लगी कुंडी को बाहर की बगल की खिड़की से आसानी से खोला और लगाया जा सकता है। उनका कहना है कि उनकी बेटी के मुंह एवम कान से खून का रिसाब हो रहा था। जबकि गर्दन पर काले धब्बे के निशान रस्सी से दबाकर की गई हत्या सा प्रतीत हो रहा था। उन्होंने  कहा कि होस्टल में रह रही छात्राओं का कहना है कि घटना के दिन सोनाली कोचिंग गई थी। लेकिन कोचिंग की लड़कियों का कहना है कि उस दिन सोनाली कोचिंग आयी ही नही थी। पिता का कहना है कि उनकी बेटी की हत्या कर उसे आत्महत्या बताया जा रहा है। उन्होंने कहा कि निकटवर्ती थाना में वे अपनी बेटी की हत्या किए जाने से सम्बंधित रिपोर्ट दर्ज कराना चाहा। लेकिन पुलिस उनकी रिपोर्ट दर्ज नही की। कुछ भी हो। सोनाली की मौत से शेखपुरा जिले ने एक होनहार , प्रतिभावान बेटी खो दिया। मृतका के पिता ने देश के राष्ट्रपति एवम प्रधानमंत्री से उनकी बेटी की संदेहास्पद मौत की उच्चस्तरीय जांच करवाने की गुहार लगाई है।

a2znews