स्पॉट : मोतिहारी के गांवों में दिख रहा समुद्र सा नज़ारा,सभी नदियां बनी है ख़ौफ़नाक

 

मोतिहारी । अशोक वर्मा।

पूर्वी चंपारण में विनाशक बाढ की पुरी संभावना बनती जा रही है।विभिन्न नामों वाली गंडक नदी उछाल मार रही है।लालबेगिया और बरनवाघाट क्षेत्र मे पानी तेजी से बढ रहा है।सात दिनो के लगातार वर्षा से जिले की स्थिति वैसे हीं समूद्र समान बनी हुई है।जल निकासी के लिए दो पक्षों मे कई गांवो मे टकराव हो चुके है।प्रशासन हमेशा की तरह से नीरीह बना हुआ है।सिर्फ सवेँक्षण और नीचले अधिकारियों को आदेश भर देने में लगी हुई है।इसका प्रमाण है कि डी० एम० रमण कुमार को खुद बालू का बोरा उठाकर जिलेवासियों को दिखाना पड रहा है कि प्रशासन के लोग कितने असहाय हैं।


मधुबनी घाट रोड मे समूद्र का नजारा है।डाकबंगला मे बने नये माकेँट मे बहुत से लोग शरण लिए हुए हैं।नदी के किनारे के लोग उँचे स्थलों की ओर अपने मवेशियों को लेकर जा रहे है।सुगौली जिसे बाढ का प्रवेश द्वार कहा जाता है।वहां नदी खतरे के निशान से उपर बह रही है और पानी का फैलाव आसपास के गांवो मे हो रहा है।सडक के किनारे के पेंड जल बहाव के कारण गिर रहे हैं।किनारे के कटाव से हजारो पेंडो की गिरने की संभावना है।

a2znews