स्पॉट रिपोर्ट: लगातार बारिश से चंपारण के इलाकों में बढ़े बाढ़ के खतरे,खेत हुये खुशहाल तो सड़के बदहाल!

 

अशोक वर्मा। मोतिहारी(बिहार)।

लंबी प्रतिक्षा के बाद जिले मे तीन दिनो से मुसलाधार वर्षात हो रही है।वैसे प्रचंड गर्मी से जनता त्रस्त थी।किसान मायूस थे।ज्यादातर खेत मे जोताई भी नही हुई थी।इस बीच मौसम ने करवट ली और वर्षात आरंभ होने से राहत मिली।किसान खुश हुए कि अब धान की खेती हो जायेगी।लगातार मुसलाधार वर्षात होने से और खेतो मे पानी भर जाने से अब किसानो के चेहरे पर एक बार फिर से मायुसी छा गई है।


चंपारण मे बाढ का इतिहास काफी भयावह है।प्रत्येक तीन वर्ष मे यहां बाढ की प्रवल संभावना हो जाती है।नेपाल मे अगर तीन दिन वर्षात हो जाये तो उस पानी को नेपाल छोडता है जो गंडक बराज होकर पूर्वी चंपारण होते हुए समस्तीपुर तक भयंकर तबाही मचाती है।नेपाल के पहाड पर वरसने वाला पानी भारत के लिए काल बन जाता है।
किसान अब संभावित बाढ के भय से खेती से उदासीन हो रहे हैं।शहर से लेकर गांवो तक मानो जीवन ठहर सा गया है।सबसे बुरा हाल नगरवासियों का है।गांव की जनता तो अनेक समस्यायों से जुझने की अभ्यस्त है,लेकिन शहर की जनता जो अब चौगुना से भी ज्यादा नगर परिषद को टैक्स दे रही है,जल जमाव से काफी परेशान है।शायद हीं कोई मुहल्ला होगा जो जलजमाव के प्रभाव मे नहीं आया होगा।नगर एक तरह से नरक मे तब्दील हो गया है।सभी नाले बंद हैं पानी का बहाव अवरुद्ध है,चारो तरफ कीचड हीं कीचड हो चुका है।और चारों तरफ अभी सुअर हीं दिख रहे हैं।जलजमाव,के कारण एक तरह से सुअरों का नगर पर अभी कब्जा दिख रहा है।लावारिस पशू,कुत्ते,बीमार और लावारिस हो चुकी घोडी आदि हीं चारो तरफ फैले हुए दिख रहे है। लगातार वर्षात के कारण ज्यादातर दुकाने बंद है,लोगों का आवागमन बहुत कम हो चुका है।

शहर का खामोश माहौल ऐसा है मानो किसी तूफान के पहले का दृश्य होता है।दिल्ली काठमांडो राष्ट्रीय संपर्क उच्च पथ पर बने गढ्ढे के कारण जानपुल बंजरिया पंडाल के पास सैकडो ट्रक,बस और बडे वाहन फंसे पडे हैं।छोटे वाहन जैसे तैसे निकल रहे हैं।अजीब भयावह माहौल बन गया है।वैसे नगर परिषद द्वारा जल जमाव वाले जगहों से जल निकाला जा रहा है,लेकिन लगातार वर्षात होने से सफलता नहीं मिल पा रही है।जिला प्रशासन की ओर से इस आपदा मे किसी भी प्रकार की कोई राहत नहीं चलाया जा रहा है।जनता खाशकर गरीब लोग सभी अपने भाग्य भरोसे हैं और वर्षा थमने की प्रतिक्षा कर रहे हैं।

a2znews