पूर्णाहुति के साथ सम्पन्न हो गया कांटी के मधुबन में चल रहा 9 दिवसीय रूद्र महायज्ञ

 

संवाददाता । मुजफ्फरपुर(बिहार)।

मधुबन शिव मंदिर प्रांगण में 3 जुलाई से चल रहे श्री श्री 1008 रूद्र महायज्ञ गुरुवार को 9 दिन वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच संपन्न हो गया । इस अवसर पर हबन, कीर्तन, शिव स्तुति, राम धुन का भव्य आयोजन किया गया ।
महायज्ञ के अंतिम दिन कुमारी कन्याओं के लिए विशेष रूप से महाभोज का आयोजन हुआ , जिसमें 700 से ऊपर कुमारी कन्याओं ने भाग लिया । साथ ही यज्ञ स्थल पर महा भंडारा का भी आयोजन हुआ जिसमें हजारों लोग शामिल होकर महा प्रसाद ग्रहण किया । महा भंडारा में साधु संतों की संख्या काफी थी ।


इससे पूर्व यज्ञ स्थल पर कुमारी कन्याओ ने हवन किया एवं भगवान रुद्र से प्राणियों में सद्भावना, विश्व शांति , पर्यावरण की सुरक्षा , धर्म के प्रति लोगों में आकर्षण पैदा हो इसके लिए प्रार्थना किया । यज्ञशाला में सैकड़ों की तादाद में श्रद्धालुओं द्वारा विशेष हवन कार्यक्रम में शामिल होकर हवन किया गया।


महायज्ञ पूर्णाहुति के वक्त उपस्थित श्रद्धालुओं को व्यासपीठ से संबोधित करते हुए आचार्य जय कृष्ण शास्त्री ने शिव जी के महिमा का व्यापक बखान किया और कहा इस रूद्र महायज्ञ का प्रभाव है कि अन्य देवी-देवता तो प्रसन्न हुए ही हैं, देवराज इंद्र भी प्रसन्न होकर जल के लिए मचे त्राहिमाम को भी समाप्त कर दिया है। जिसका प्रमाण सबके सामने है । उन्होंने उपस्थित श्रद्धालुओं से धर्म के प्रति निष्ठावान रहने का भी आग्रह किया।


पूर्णाहुति के बाद संध्याकाल भजन संध्या का भी आयोजन किया गया जिसमे कलाकारों के द्वारा भव्य भजन एवं जागरण की प्रस्तुति की गई। महायज्ञ समिति के सदस्य एवं पूर्व मंत्री अजीत कुमार ने महायज्ञ सफलता के लिए सभी प्रेस प्रतिनिधि, सभी आचार्य विद्वान पंडितों, सभी ग्रामवासी एवं इलाके के लोगों के प्रति आभार व्यक्त किया।

उन्होंने कहा कि विपरीत परिस्थिति में भी यह महायज्ञ सफल ही नहीं महा सफल हुआ है । श्री कुमार ने स्थानीय लोगों को साधुवाद देते हुए कहा इस महायज्ञ में सभी जाति -सभी धर्म के लोग सीमाओं को तोड़कर महायज्ञ सफलता के लिए दिन रात काम किया है वे सब बधाई के पात्र हैं। उन्होंने यज्ञ समिति के सदस्य मनमोहन सिंह, श्याम नारायण झा, दामोदर चौधरी, रामसागर राय, सीता राम साह, कन्हाई झा , सुबोध कुमार, अशोक पासवान, विपिन कुमार विनय, शिव शंकर महतो, रविंदर यादव , लखींद्र राय, गुड्डू महतो, भोला साह , सुनील शर्मा, राजकुमार ,शंभू शाह ,अशोक चौधरी ,लंबोदर झा आदि के प्रति भी आभार व्यक्त करते हुए महायज्ञ के सफल संचालन के लिए उन्हें बधाई दी। ई0कुमार ने महा यज्ञ के यजमान पंडित लाल नारायण झा को महायज्ञ में अपनी महती भूमिका निभाने के लिए भी उनके प्रति आभार व्यक्त किया।

a2znews