स्पॉट रिपोर्ट: यहां बिजली कटते ही ग्रामीण बैंक में बैंकिग कार्य हो जाता है ठप, शुरू हो जाता ग्राहको से हील हुज्जत का सिलसिला!

कुमार सुबोध सिंह | शंभूगंज/बांका

*दो दिन से जमा निकासी नही होने से ग्राहक परेशान

सरकार बैंकिग प्रणाली की व्यवस्था को भले ही हर जगह बेहतर कर दिया हो, किन्तू शंभूगंज बाजार स्थित ग्रामीण बैंक की हालत आज भी बद से बदत्तर है। जिसके कारण नित्य दिन इस बैंक में ग्राहको व बैंक कर्मीयो के बीच दिन भर हील हुज्जत व वाद विवाद का सिलसिला चलता रहता है। इसका मुख्य कारण यह है कि शंभूगंज ग्रामीण बैंक को अपना जरनेटर की कोई व्यवस्था ही नही है। जिससे ग्रामीण बैंक को पुरी तरह बिजली पर आश्रित होकर काम निपटाना पड़ रहा है। जहां बिजली कटते ही बैंकिग सेवा का कार्य भी ठप हो जाता है। मंगलवार व बुधवार को भी शंभूगंज में बिजली नही रहने के कारण ग्रामीण बैंक में बैंकिग सेवा पुरी तरह बंद रहा। जिसके कारण दुर दुर से बैंक के कार्य से यहां आने वाला ग्राहको को बैंक की इस व्यवस्था से गहरा आक्रोश व्याप्त है। बता दे कि शंभूगंज ग्रामीण बैंक की शाखा में करीब दस हजार से भी ज्यादा बचत खाता धारी है।

इतना ही नही आंगनवाड़ी केन्द्र की सेविका का पोषाहार राशि से लेकर सरकार के हर योजना का राशि इसी बैंक से निकासी होता है। बैंक की इस व्यवस्था से आक्रोशित होकर बुधवार को भी चुटिया गांव के मो साहेद, मो. रेहान सहित दर्जनो ग्राहको ने शाखा प्रबंधक से काफी हील हुज्जत कर इसकी शिकायत डीएम बांका से करने की बात कही। जबकि कई महिला ग्राहको ने बैंक में ही जमकर आक्रोश व्यक्त किया। कई ग्राहको ने तो अपना बचत खाता बंद कर लेने की संकल्प ले लिया। स्थानीय लोगो ने डीएम बांका से इस बैंक की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग किया है। इस संबंध में जब ग्रामीण बैंक शंभूगंज के शाखा प्रबंधक दुर्गा दत्त झा से जानकारी लेना चाही तो उन्होने कुछ भी बोलने से साफ इंनकार कर दिया।

a2znews