स्पॉट रिपोर्ट : नया कांवरिया पैदल पथ में बिछाया गया महीन बालू बहा ले गया बारिश का पानी,ठेकेदार व अधिकारी मौन!

कुमार सुबोध सिंह | शंभूगंज/बांका।

विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला 17 जुलाई से शुरु हो रहा है। इस श्रावणी मेला में एक महीना तक देश-विदेश के कांवरिया तीर्थयात्री सुल्तानगंज के पवित्र उत्तरवाहिनी गंगा में जल भरकर कच्ची नया कांवरिया पथ के रास्ते पैदल ही लाखों की संख्या में बोल बंम का जयघोष के साथ बाबाधाम रवाना होते है। श्रावणी मेला प्रारंभ होने में भले ही छह दिन शेष रह गये हो, लेकिन कांवरिया तीर्थयात्री का जत्था नया कांवरिया पैदल पथ से होकर बाबाधाम जाने का सिलसिला शुरू हो गया है। वही नया कांवरिया पैदल पथ में कराए जा रहे विभिन्न विभागों के कार्य ठप पड़े हुए है।

ठेकेदार के द्वारा नया कांवरिया पैदल पथ पर जिला प्रशासन के आदेश पर बिछाया गया बालू को पहली बारिस की पानी ही बहा ले गया है। जिससे कांवरिया पैदल पथ पर बालू के बजाय अब कई जगहो पर मिट्टी व कीचड़ दिख रहा है। इसका मुख्य कारण यह है कि ठेकेदार के द्वारा नया कांवरिया पैदल पथ पर जो बालू बिछाया गया था,वह बालू बिलकुल महीना मिट्टी मिला बालू था। एक सप्ताह पहले कांवरिया पथ में जगह-जगह एक-एक ट्रेलर मिट्टी युक्त बालू गिराया गया है। जो कि अभी से ही बारिश के पानी के साथ विलीन हो गया है। हालाकि कांवरिया तीर्थयात्री के सुविधा के लिए इस वर्ष भी बांका भागलपुर जिले के सीमा पर स्थित बेलारी केएम कॉलेज के समीप विशाल पंडाल व टेन्ट का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। जबकि नया कांवरिया पैदल पथ पर बालू बिछाने, शौचालय निर्माण, कुर्सीनुमा बैंच लगाने जैसे अन्य कार्य अब भी अधुरे पड़ा है।

a2znews