एक्सक्लूसिव:बदलते मौसम के मिज़ाज़ के बीच सैलानियों को ख़ूब आकर्षित कर रहीं VTR की वादियां,अब जलमार्ग से जुड़ेगा जटाशंकर मंदिर व कवलेश्वर धाम!

 

दीपक । वाल्मीकिनगर(बिहार)।

मौसम का मिजाज बदलते ही सैलानी वाल्मीकिनगर बड़ी संख्या में पहुंचने लगे हैं। यहां का नजारा सैलानियों को लुभा रहे हैं जिससे सैलानी वाल्मीकिनगर के पर्यटल स्थलों पर देखे जा रहें हैं। पयर्टकों को आकर्षित करने के लिए जटाशंकर मंदिर व कवलेश्वर धाम को शीघ्र ही जलमार्ग से जोड़ने की याेजना बनाई गई है। इसके लिए जल संसाधन विभाग व वीटीआर ने संयुक्त रुप से प्रयास तेज कर दिया है। बता दें कि बिहार के एक मात्र टाईगर रिजर्व को पर्यटन हब के रूप में विकसित करने के लिए सरकार अनेक योजनाओं को अमलीजामा पहना रही है। खासकर प्रकृति के गोद मे बसे बाल्मीकि ब्याघ्र परियोजना के इलाके में इक्को टूरिज्म को बढ़ावा देने व पर्यटकों की संख्या बढ़ाने को लेकर द्रुतगति से कार्य किया जा रहा है। बतादें की वीटीआर रिजर्व में लाखों पर्यटक प्रति वर्ष प्रकृति की खूबसूरती का दीदार करने यहां आतें हैं। यही वजह है कि बाल्मीकिनगर के वादियों को बिहार का कश्मीर भी कहा जाता है।

पर्यटकों के लिए यहां के धार्मिक स्थल भी आकर्षण का केंद्र रहें हैं। वीटीआर के घने वन क्षेत्रों के बीच जटाशंकर मन्दिर,त्रिवेणी संगम पर स्थित कवलेश्वर धाम,नरदेवी माता दरबार,व वाल्मीकि आश्रम मुख्यतः आस्थावान पर्यटकों को बरबस आकर्षित करते हैं। अब जल संसाधन विभाग व टाइगर रिजर्व के गहन जंगलों के बीच अवस्थित प्राचीन मन्दिर जटाशंकर,कवलेश्वर धाम तक पहुंचने के लिए जलमार्ग से जोड़ने के प्रयास किए जा रहे है। जलसंसाधन विभाग के तत्कालीन अधीक्षण अभियंता नंद कुमार ने बताया कि अब श्रद्धालु व पर्यटक सड़क मार्ग सहित जलमार्ग से भी इन स्थानों पर पहुंच सकेंगे।

a2znews