Breking:बन्दरा में AES एवं JE से बचाव,उपचार एवं सतर्कता के हुई बैठक,निकाली जनजागरूकता रैली

बंदरा । संवाददाता ।

प्रखंड मुख्यालय के सभाकक्ष में शनिवार को जेई एवं एईएस से बचाव, उपचार एवं सुरक्षा को लेकर एक दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया ।यह प्रशिक्षण एएनएम, आशा एवं आशा फैसिलिटेर को दिए गए ।मौके पर बंदरा के बीडीओ अलख निरंजन ने बताया कि जिले के अन्य प्रखंडों में एईएस एवं जेई बीमारी की चपेट में बच्चे लगातार आ रहे हैं।इसको लेकर प्रखण्ड क्षेत्र के लोगों में भी काफी भय की स्थिति है।

उन्होंने इससे बचने की सलाह लोगों को दी तथा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं से कहा कि यदि किसी इलाके में इस बीमारी की चपेट में कोई बच्चे पीड़ित होने की बात सामने आती है और पास के मुरौल या गायघाट पीएचसी से एंबुलेंस आने में देरी होती है तो ऐसी स्थिति में लोग उन्हें सूचित करें। वे अपने स्तर से बच्चे को हॉस्पिटल तक ले जाने के लिए गाड़ी की व्यवस्था करेंगे। जरूरी हुई तो वे अपनी गाड़ी भी लेकर मौके पर पहुंचेंगे। उन्होंने बताया कि बंदरा पीएससी में इमरजेंसी इलाज की सुविधा उपलब्ध नहीं है।

इस लिहाज से प्रखंड क्षेत्र के लोगों को इस स्थिति में बच्चों को उपचार के लिए पास के मुरौल, गायघाट या पूसा अस्पताल तक ले जाने की व्यवस्था होनी चाहिए। दूरी की वजह तथा ग्रामीण एरिया होने की वजह से कई बार वाहन की असुविधा हो जाती है। मौके पर बीमारी से बचाव एवं रखरखाव को लेकर विभागीय दिशा निर्देश के आलोक में विभिन्न टॉपिक पर बिंदुवार जानकारी दी गई तथा हर समय चौकन्ना रहने के निर्देश दिए गए। हेल्थ मैनेजर कल्पना कुमारी ने बताया कि प्रखंड क्षेत्र में बीमारी से बचाव, रखरखाव को लेकर विभागीय सतर्कता बरती जा रही है तथा हर स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को अपने-अपने क्षेत्र में अलर्ट रहने को कहा जा रहा है।

उन्होंने कहा कि हर वार्ड एवं टोला कस्बा में बीमारी से बचाव एवं निदान के लिए जन जागरूकता का अभियान चलाएं ।इस मौके पर बैठक के बाद बीमारी से बचाव के लिए जन जागरूकता रैली भी निकाली गई जो प्रखंड एवं आसपास के इलाकों से होकर पुनः प्रखंड मुख्यालय में वापस आकर खत्म हो गयी। इस दौरान बंदरा पीएचसी से जुड़े हुए एएनएम, आशा कार्यकर्ता ,आशा फैसिलिटेटर,संबंधित चिकित्सक,स्वास्थ्य कार्यकर्ता आदि भी मौजूद थे।

a2znews