BREAKING:समान काम समान वेतन को लेकर हल्ला बोलने की तैयारी में शिक्षक संघ,मोतिहारी में हुई प्रतिरोध मार्च!

 

मोतिहारी । राजीव कुमार झा ।

सामान काम समान वेतन के साथ राज्यकर्मी का दर्जा देने ,नियमित शिक्षकों के विलोपित पदों को पुनः जीवित करने, टेट तथा एसटेट उतीर्ण अभ्यर्थियों को अविलम्ब बहाल करने, अनुकम्पा पर अप्रशिक्षित शिक्षकों को बहाल करने सहित 21 सूत्री मांगों के समर्थन में नियोजित शिक्षक संयुक्त संघर्ष मोर्चा के बैनर तले शिक्षकों द्वारा मोतिहारी में धरना प्रदर्शन किया गया। संघ ने बँगला स्कूल से मार्च निकाला ।

शिक्षकों का यह काफिला सरकार की शिक्षक विरोधी नीतियों के खिलाफ नारेबाजी करते हुए समाहरनालय तक पहुंचा। शिक्षकों के बढ़ते तादाद को देखते हुए स्थानीय प्रशाशन को पुलिस बल बुलाना पड़ा।आक्रोशित शिक्षकों तथा पुलिस के बीच नोंक झोंक भी हुई।फिर नीतीश सरकार होश में आओ आदि नारों के साथ शिक्षक धरना पर बैठ गए।


धरना स्थल पर उपस्थित शिक्षकों को संबोधित करते हुए प्राथमिक शिक्षक संघ के उपाध्यक्ष रामाकांत यादव नें कहा कि जो सरकार शिक्षक हित की बात नहीं करती उसे सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है।यह देश का दुर्भाग्य है कि देश के भविष्य निर्माताओं को अपनी मांगों के लिए सड़कों पर उतरना पड़ रहा है।पुलिसिया बर्बरता झेलनी पड़ रही है।रा.शि.संघ के संतोष सिंह नें कहा कि शिक्षकों की यह उपेक्षा नीतीश सरकार के पतन का कारण बनेगी और यह आने वाले इतिहास में दर्ज होगा।बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के संजय कुमार तिवारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में जिस तरह से सरकार ने शिक्षकों के प्रति अपनी नियत को सरेआम कर दिया उसे पूरे देश ने देखा।इस सरकार को बिना वेतन के पूरे तीस रमजान गुजारने वाले उन लाखों जांबाज शिक्षकों की आह लगेगी जिनके बच्चे पैसे की कमी कारण बाजार से नए कपडे तक नहीं खरीद सके। इस सरकार को उन लाखों शिक्षकों के परिवार की आह लगेगी जो अर्थाभाव के कारण अपने परिवार के बीमार सदस्यों का बेहतर ईलाज भी नहीं करा पा रहें हैं।हिटलर की इस सरकार का पतन निश्चित है। सभा को संबोधित करते हुए शिक्षक नेता सूर्यकांत पाठक ने कहा कि चाणक्य के देश में शिक्षकों का अपमान करने वाली यह अंधी सरकार लाखों बच्चों का भविष्य अंधकारमय कर रही है।शिक्षक नेता ओम प्रकाश सिंह ने कहा  याचना नहीं अब रण होगा जीवन जय या कि मरण होगा.अब सरकार हीटलरबाजी की पराकाष्ठा पार कर चुका है।


कार्यक्रम के अंत में अध्यक्ष मंडल ने जिलाधिकारी से मिलकर एक ज्ञापन सौंपा।जिलाधिकारी नें राज्यस्तरीय मांगों को प्रधान सचिव को प्रेषित किया।
कार्यक्रम में प्रियरंजन सिंह,सतीश सिंह,संजीत कुमार,नवल किशोर सिंह,राघवेन्द्र प्रसाद,गोलू सिंह,अरविन्द कुमार सिंह,शमा प्रवीण,रुखसाना प्रवीण,असलम आजाद,रुमित रौशन,दिनेश प्रकाश,आनंद शंकर शिव शंकर गिरी,प्रदीप कुमार,अमित सिंह,विक्रमा सिंह,मीरा कुमारी,तनुज रंजन,रामजीवन भारती,रीता कुमारी,रणजीत पासवान अखिलेश कुमार ,तारीक अनवर,सुमन रवि आदि सैकड़ों शिक्षक उपस्थित थे।

deepak