बन्दरा में नहीं है पेयजल की सुविधा,घर से लाकर पीनी पड़ती है पानी

 

बंदरा । संवाददाता ।

प्रखंड मुख्यालय में स्थित बंदरा पीएचसी में पेयजल सुविधाओं का शुरू से अबतक अभाव है ।बंदरा पीएससी में इलाज कराने आने वाले लोगों को खासकर गर्मी के दिनों में पेयजल संकट का सामना करना पड़ता है। पीएचसी में कार्यरत स्वास्थ्य कर्मियों एवं चिकित्सकों को भी पीने का पानी अपने-अपने घरों से बोतल में बंद कर साथ लाना पड़ता है। बताया जाता है कि बंदरा पीएचसी में प्रखण्ड के सुदूर गांवों एवं कस्बों से इलाज कराने आने वाले मरीजों को जब पीने की पानी की जरूरत होती है तो प्रखंड मुख्यालय के सामने लगी चापाकल से या पास के चौक के दुकान से पानी की बोतल खरीदकर लानी पड़ती है। लिहाजा ऐसे में पास के दुकानदारों को पानी बेचने का धंधा परवान पर है ।प्रखंड मुख्यालय में स्थित पीएचसी में बुधवार को इलाज कराने पहुंचे रामाशीष यादव, रंजीत साहनी, शंकर साहनी ,जोगीरा पासवान, चंपिया देवी नव्या देवी, रंगीला देवी आदि ने बताया कि वे लोग पीएचसी में इलाज के लिए सुबह 10 बजे आए थे।

करीब 11 बजे से उन्हें प्यास लगी है। प्रखंड परिसर के चापाकल में पानी के लिए गए थे लेकिन उस चापाकल से बालू मिश्रित पिला पानी निकलने के कारण वे पानी नहीं पी सके हैं। उनके पास मात्र 14 रुपये है ।पूरे 20 रुपये नहीं है। जिसके कारण हुए प्रखंड मुख्यालय के पास स्थित दुकान से पानी खरीदकर नहीं ला सके। उन्होंने बताया कि पीएचसी में वे जब से आ रहे हैं। तब से चापाकल नहीं देख रहे हैं। बंदरा पीएसी के चिकित्सा प्रभारी डॉ जेपी वालों ने बताया कि उन्हें तथा चिकित्सा कर्मियों एवं चिकित्सकों को खुद भी पीएचसी में बुनियादी सुविधाओं का अभाव रहता है। पीने के पानी का बोतल वे लोग अपने-अपने घरों से लेकर आते हैं ।पीएचसी में निर्माण काल से अब तक चापाकल नहीं है। शौचालय का भी अभाव है ।उन लोगों को खुद भौतिक सुविधाएं नहीं हैं तो वे लोग मरीजों को कहां से भौतिक सुविधाएं उपलब्ध करा दें।

a2znews