यादें:एक बोटल दारू दो कबूतर–,लालू यादव के हंसगुल्ले अंदाज में भाषण को तरस रहे जनता!

कुमार सुबोध सिंह | शंभूगंज/बांका

*हर चुनावी सभा में मतदाता कह रहे लालू की भाषण सुनकर मिट जाता था थकान

बिहार में लोक सभा चुनाव को लेकर जहाँ सभी पार्टी व दल अपनी अपनी पार्टी दलो के प्रत्याशी की जीत दिलाने की तैयारी में लगे है । वही महागठबंधन में बिहार के सबसे बड़े दल राजद के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की कमी महागठबंधन के होने वाला हर सभा में स्पष्ट रूप से दिखनी लगी है । लोक सभा का चुनाव हो या विधान सभा का चुनाव हो लालू प्रसाद यादव की एक झलक पाने व उनके हंसगुल्ले अंदाज में भाषण सुनने के लिए लोग बेताब रहते थे । उनके आवाज की नकल चाहे कितनो भी की जाय लेकिन लालू प्रसाद की हंसबोल आवाज लोगो को मंत्रमुग्ध कर देता था । पिछले विधान सभा चुनाव में अमरपुर विधान सभा प्रत्याशी जनार्धन मांझी के पक्ष में चुनावी सभा को संम्बोधन करने शंभूगंज प्रखंड क्षेत्र के कसबा गांधी मैदान पहुंचे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने नरेन्द्र मोदी का नकल भाईयो बहनो ये हुआ, नही हुआ , भाईयो बहनो बजली आई की गई।भाईयो बहनो खाता में 15- 15 लाख आई की गई करके खुब हंसाया था । इतना ही नही उन्होने नरेन्द्र मोदी को बिहार में सत्ता में नही आने देने के लिए एक बोटल दारू आरू दो कबूतर देकर मंत्र मारकर भगा देने की रंगरसिया व हंसगुल्ले अंदाज में भाषण देकर मतदाताओ को मनोरंजन देकर अपने पक्ष में कर लेते थे । लेकिन इस बार के लोक सभा चुनाव में चारा घोटाला में साजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया । जिसके कारण इस लोक सभा चुनाव में लालू प्रसाद यादव के हंसगुल्ले भाषण को लोग खुब तरस रहे है । 1977 के चुनावो के बाद पहली बार एेसा होगा जब बिहार में चुनाव तो होगें । लेकिन लालू प्रसाद यादव दिखाई नही देगें । इमरजंशी के बाद जब आम चुनाव हुए तो लालू प्रसाद यादव पहली बार चुनावी मैदान में थे और वे सारण के सांसद चुने गए थे।

उसके बाद राज्य की राजनीतिक में लगातार अपनी उपस्थिति दर्ज कराते रहे है।खासकर बिहार के सियासी में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का बड़ी भुमिका रही है । खासकर शंभूगंज के लालू प्रसाद यादव के कुछ ज्यादा ही चेहते है।जहाँ हर चुनावी सभा में दर्शक लालू प्रसाद यादव की हंसबोल आवाज के लिए तरस खाकर अन्य नेता का भाषण सुनने के बाद मुड फ्रेस नही होने की बात की चर्चा करना नही भुलते है । राजद के कार्यकर्ता यादव शैलेश कुमार यदुबंशी, सुबोद यादव, टीपन यादव, मो जियाउल रहमान, अशोक सिंह आदि कार्यकर्ताओ ने बताया कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का भाषण मतदाताओ व कार्यकर्ताओ के लिए किसी टॉनिक से कम नही था । प्रचार प्रसार में दिन रात मेहनत करने के बाद अगर लालू प्रसाद यादव की एक चुनावी सभा का भाषण सुन लिया जाय तो कार्यकर्ताओ की सारी थकान ही दुर हो जाती थी।

a2znews