पुलिस के दबिश की वजह से अपराधियों ने तीनों अगवा मजदूरों को छोड़ा

 

*अपराधियों के ठिकाने पर पहुंचने ही वाली थी पुलिस

*मामला उलझने को लेकर अपराधियों ने अगवा मज़दूर को किया रिहा

*30 घंटे बाद अपने घर लौटा मज़दूर,परिजनों के चेहरे पर लौटी मुस्कान

विकास कुमार,चकाई (जमुई)।

दो दिन पूर्व चंद्रमंडीह थाना क्षेत्र के घरवासन गांव स्थित चिमनी ईट भट्ठा से अपराधियों द्वारा अगवा किये गये तीन मजदूरों को गुरुवार आठ बजे सुबह कटोरिया के पास मुक्त कर दिया।वहीं अपराधियों ने अगवा मजदूरों को 80 रुपया भाड़ा के लिए भी पैसा दिया जैसे वह ऑटो कर देवघर पहुंचे वैसे ही चंद्रमंडीह पुलिस ने उसे बरामद किया।

इस बारे में जानकारी देते हुए डीएसपी भास्कर रंजन ने बताया कि मंगलवार देर रात को एक सफेद बोलेरो से आये 12 की संख्या में आग्नेयास्त्र से लेश अपराधियों ने चिमनी भट्ठे पर कार्यरत नाईट गार्ड नेपाली पासवान को अपने कब्जे में लेकर उसके साथ मारपीट की तथा वहां सोये दो अन्य मजदूर मनोज यादव एवं रविंद्र पंडित को जबरन अगवा कर अपने साथ पैदल मुख्य सड़क तक ले आया जहां आठ अपराधियों ने तीनों को बोलेरो पर उठाकर तथा अगवा मजदूरों के आंख पर पट्टी बांधकर अपने साथ अज्ञात स्थान की ओर ले गया।बाकी चार अपराधी वहीं रुक गया।

*बंदी बना कर मजदूरों को रखा गया था पहाड़ के ऊपर:

आगे उन्होंने बताया कि इन लोगो को बेलहर के पास जैसा कि मजदूरों का कहना है एक पहाड़ पर रखा गया था और दिन को चूड़ा खाने को दिया गया।वही रात में चावल खाने को दिया गया और पुलिस की लगातार छापेमारी से घबराकर अपराधियों ने गुरुवार 8 बजे पहाड़ से नीचे उतारकर 80 रुपया भाड़ा देकर यह कहते हुए छोड़ा की पुलिस के लगातार दबाब के कारण तुम्हें छोड़ा जा रहा हैं।लगभग एक किलोमीटर पैदल चलने के बाद अगवा मजदूर कटोरिया पहुंचे जहां से वे तीनों ऑटो पकड़कर देवघर आये जहां पहले से मौजूद चंद्रमंडीह पुलिस की टीम ने उसे बरामद कर मजदूरों को चंद्रमंडीह थाना लाया गया।


अगवा मामले में तीन लोगों को हिरासत में लेकर की जा रही थी पूछ-ताछ:

वही डीएसपी भास्कर रंजन ने बताया कि इस मामले में दो दिनों से अगवा मजदूरों को छूड़ाने के लिए लगातार छापेमारी चल रही थी और इस दौरान चंद्रमंडीह थाना क्षेत्र के माधोपुर एवं घरवासन से तीन संदिग्ध विन्देश्वरी पासवान, अनिल पासवान एवं बोनो पुजहर को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही थी।पुलिस को पक्का विश्वास है कि इसमें एक व्यक्ति अपराधियों के संपर्क में था।उन्होंने बताया कि अभी तक के जांच पड़ताल से पता चला है कि इस घटना में हाल ही में जेल से छूटे कुख्यात अपराधी रमेश हेम्ब्रम तथा टेटू टुडू गिरोह का हाथ हैं।पुलिस की छापेमारी जारी हैं।

जल्द इस घटना में शामिल अपराधियों को पकड़कर इस घटना का उद्भेदन कर लिया जाएगा।वही सभी अगवा मजदूरों को मेडिकल के लिए चकाई रेफरल अस्पताल भेज दिया गया हैं।मौके पर चकाई थानाध्यक्ष चंदेश्वर पासवान ,चंद्रमंडीह थाना प्रभारी खामश चौधरी, अवर निरीक्षक नारायण ठाकुर, साहेब दयाल,संजीत कुमार,टीके मिश्रा आदि मौजूद थे।

a2znews