स्पॉट: मोतिहारी के मेयर और उप मेयर पद पर दिग्गजों की दावेदारी, चुनाव बन गया है दिलचस्प

मोतिहारी/ राजन द्विवेदी।

– मोतिहारी के मेयर और उप मेयर पद पर दिग्गजों की दावेदारी, चुनाव बन गया है दिलचस्प

 

मोतिहारी नगर निगम चुनाव को लेकर नामांकन पूर्वी चंपारण जिले में सरगर्मी अपने चरम पर पहुंच गया है। इस बार मोतिहारी में पहली बार हो रहे मेयर और उप मेयर के चुनाव को लेकर पूरे जिले वासियों में गजब का उत्साह और उमंग देखा जा रहा है। जहां राजनीतिक पार्टियों ने अपने अपने उम्मीदवारों को मैदान में उतार दिया है। साथ ही कद्दावर नेताओं ने भी अपने -अपने समर्थित उम्मीदवार पर प्रतिष्ठा को दाव पर लगा दिया है। जिसके कारण इस बार का मेयर और उप मेयर का चुनाव दिलचस्प हो गया है। इस चुनाव को लेकर नामांकन दाखिल के छह दिन बीत गए हैं। इस दौरान अब तक चौदह लोगों ने मेयर पद के लिए नामांकन का पर्चा दाखिल किया है।

वहीं नौ प्रत्याशियों ने उप मेयर के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया है। हालांकि अभी भी नामांकन के शेष बचे दो दिनों में कई और दिग्गज उम्मीदवारों के नामांकन पत्र दाखिल करने की उम्मीद जताई जा रही है। फिलहाल मेयर पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने वाले कद्दावर उम्मीदवारों में भाजपा विधायक पवन जायसवाल और शिवहर सांसद समर्थित माने जाने वाली उम्मीदवार प्रिति गुप्ता, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सह सांसद राधामोहन सिंह एवं विधायक प्रमोद कुमार के द्वारा घोषित उम्मीदवार भाजपा जिलाध्यक्ष प्रकाश अस्थाना, जदयू के वरिष्ठ नेता विनय सिंह, राजद के वरीय नेता मणी भूषण श्रीवास्तव, कद्दावर नेता अशोक यादव, महिलाओं में विशेष पकड़ रखने वाली ममता वर्मा, समाजसेवी शिव कुमार सहित चौदह उम्मीदवार ने अपनी दावेदारी पेश कर दी है। वहीं उप मेयर बीजेपी समर्थित उम्मीदवार डॉ लालाबाबू प्रसाद, संजय कुमार शुक्ला, साजिद हुसैन रवि रंजन सहित नौ उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल कर अपनी दावेदारी पेश कर दी है। जबकि जदयू के वरिष्ठ नेता अमरेंद्र सिंह, ई अजय कुमार आजाद की भी उप मेयर पद पर आज नामांकन पत्र दाखिल करने की बात कही जा रही है। अगर ये दोनों उप मेयर पद पर दावेदारी के लिए मैदान में उतर जाते हैं तो भाजपा के लिए मेयर और उप मेयर पद पर कब्जा करने की बात कठिन साबित होगी। वहीं दूसरी ओर मोतिहारी शहर के कुल 46 वार्ड के पार्षद पद के लिए 251 उम्मीदवार ने अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है। उन सभी वार्डों में लड़ाई दिलचस्प हो गई है।

deepak